नए पैटर्न में प्रश्नों की संख्या कम, लेकिन कैलकुलेटिव पार्ट की वजह से पेपर लेंदी रहा (JEE Main 2020 Jan.)

पेपर एनालिसिस – जेईई मेन 2020
बृजेश माहेश्वरी,
निदेशक, एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से JEE Main 2020 जेईई-मेन बीई व बीटेक कोर्स के लिए जेईई मेन की शुरुआत मंगलवार से हो गई। कम्प्यूटर बेस्ड मोड पर आयोजित यह परीक्षा रोजाना दो पारियों में 9 जनवरी तक जारी रहेगी।
एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि एलन के सीसैट एप पर प्राप्त विद्यार्थियों के फीडबैक के अनुसार मंगलवार को जेईई मेन्स का पेपर मध्यम स्तरीय रहा। अभी तक हर वर्ष पेपर में प्रति विषय 30-30 प्रश्न पूछे जाते थे। वर्ष 2020 से जेईई मेन के पैटर्न में बदलाव किया गया और प्रति विषय 25-25 प्रश्न निर्धारित किए गए। जिसमें 20 प्रश्न सिंगल करेक्ट आंसर एवं 5 प्रश्न इंटीजर न्यूमेरिकल बेस्ड है। इस वजह से पेपर में प्रश्नों की संख्या कम जरुर थी लेकिन, न्यूमेरिकल वैल्यू बेस्ड प्रश्नों की वजह से पेपर कुछ लेंदी था। विद्यार्थियों को पेपर हल करने में ज्यादा परेशानी नहीं हुई। क्योंकि तीनों पेपर में पूछे गए प्रश्न एलन बुकलेट माॅड्यूल्स में शामिल थे। पेपर एनसीईआरटी सिलेबस आधारित था। मैथेमेटिक्स और फिजिक्स का पेपर कठिन रहा जबकि कैमिस्ट्री कुछ आसान थी। कुल 300 अंकों का पेपर था। शाम की पारी का पेपर सुबह की अपेक्षा आसान रहा।

कैमिस्ट्री (Chemistry Paper)
विद्यार्थियों से मिले फीडबैक के अनुसार 12वीं कक्षा के सिलेबस से सबसे ज्यादा करीबन 14 से 15 प्रश्न पूछे गए थे। आॅर्गेनिक कैमिस्ट्री को ज्यादा कवर किया गया था। जबकि फिजिकल कैमिस्ट्री के प्रश्नों की संख्या आॅर्गेनिक एवं इनआॅर्गेनिक कैमिस्ट्री की अपेक्षा कम थी। दोनों पारियों में जेईई मेन के टाॅपिक एनवायरमेंटल कैमिस्ट्री एवं एफ ब्लाॅक के प्रश्न नहीं थे। जबकि कैमिस्ट्री एवरीडे लाइफ से प्रश्न पूछे गए थे। अन्य दो विषयों की अपेक्षा कैमिस्ट्री का पेपर ओवरआल ईजी रहा।

फिजिक्स (Physics Paper)
फिजिक्स में 12 एवं 11 वीं कक्षा से पूछे गए प्रश्नों की संख्या करीब समान रही। विद्यार्थियों से मिले फीडबैक के फिजिक्स का पेपर लेंदी था। पेपर में कैलकुलेशन पार्ट सबसे ज्यादा था। ऐसे टापिक जो एडवांस में नहीं है, वे भी पेपर में पर्याप्त संख्या में कवर किए गए। सेमीकंडक्टर टापिक का एक प्रश्न अधूरा या फिर आउट आफ सिलेबस था। इस प्रश्न को लेकर असमंजस रहा। कार्नोट इंजिन से संबंधित प्रश्न दोनों पारियों में पूछा गया।

मैथेमेटिक्स (Mathematics Paper)
मैथ का पेपर भी फिजिक्स की तरह कठिन रहा क्योंकि इसमें भी कैलकुलेशन पार्ट ज्यादा था। कक्षा 11वीं से करीब 12 एवं 12वीं कक्षा के सिलेबस से 13 प्रश्न पूछे गए। सबसे ज्यादा करीब 8-8 प्रश्न कैलकुलस एवं एलजेब्रा टापिक्स से पूछे गए थे। जबकि काओर्डिनेट ज्योमेट्री से लगभग 3, वेक्टर थ्री डी से 2 एवं ट्रिग्नोमेट्री से 1 प्रश्न पूछा गया।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.