पहली बार विद्यार्थियों को ई-मेल से मिलेंगे प्रश्नपत्र एवं रिकाॅर्डेड रेस्पोंस

आईआईटी कानपुर द्वारा करवाई जा रही देश की सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-एडवांस-2018 जो कि इस वर्ष पूर्णतः आॅनलाइन मोड में होने जा रही है। यह परीक्षा देश के 155 परीक्षा केन्द्रों पर 20 मई को आॅनलाइन होगी। जेईई-एडवांस से संबंधित सवालों के जवाब शुक्रवार को आईआईटी कौंसिल द्वारा एफएक्यू जारी कर दिए गए। इसके अनुसार विद्यार्थियों को पेपर-1 व पेपर-2 दोनों परीक्षाएं देना अनिवार्य है, अन्यथा वो जेईई-एडवांस्ड द्वारा दिए गए परिणाम में शामिल नहीं किए जाएंगे। पहली बार पूर्णतः आॅनलाइन आयोजित करवाई जा रही परीक्षा के दौरान विद्यार्थी को प्रत्येक प्रश्न को दोनों माध्यम हिन्दी व अंग्रेजी में उपलब्ध करवाया जाएगा। विद्यार्थी अपनी आवश्यकतानुसार सेव किए गए प्रश्न के उत्तर को भी पुनः अनुत्तर कर बदल सकेगा। विद्यार्थियों को रफ वर्क करने के लिए रफ पेड दिया जाएगा, जिसे विद्यार्थी को परीक्षा पूर्ण होने पर जमा करवाना होगा। इस वर्ष विद्यार्थियों को जेईई-एडवांस्ड प्रश्न पत्र एवं स्वयं के रिकाॅर्डेड रेस्पोंस 25 मई से विद्यार्थियों के ई-मेल आईडी पर उपलब्ध करवाए जाएंगे।


पीआईओ एवं ओसीआई होल्डर्स को जेईई मेन द्वारा योग्य घोषित होने पर जेईई-एडवांस्ड देने का मौका मिलेगा, जबकि विदेशी नागरिकता वाले विद्यार्थियों को जेईई-एडवांस में बैठने के लिए जेईई-मेन देने की आवश्यकता नहीं होगी। ये विद्यार्थी सीधे ही जेईई-एडवांस परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। जेईई-एडवांस्ड देने के लिए ऐसे विद्यार्थी जो गत वर्ष 12वीं बोर्ड की पात्रता को पूरा नहीं कर पाए हैं, इन विद्यार्थियों को अपने-अपने 12वीं की टाॅप 20 पर्सेन्टाइल में आने के लिए सभी विषयों में बोर्ड इम्पू्रवमेंट देना होगा। साथ ही वे विद्यार्थी जो 12वीं बोर्ड की पात्रता 75 प्रतिशत या कैटेगिरी अनुसार 65 प्रतिशत को पूरा करना चाहे उन्हें एक या एक से अधिक विषयों में 12वीं बोर्ड इम्प्रूवमेंट देने की छूट दी गई है। इन विद्यार्थियों का दोनों वर्षों में से दिए गए, जिस विषय में ज्यादा अंक आए हैं, उसे बोर्ड पात्रता में औसतन प्रतिशत जोड़ने में गिना जाएगा।

 जेईई-एडवांस्ड के आॅनलाइन आवेदन करते समय ओबीसी का प्रमाण पत्र 1 अप्रेल 2018 के बाद का मांगा गया है। जिन विद्यार्थियों ने जोसा काउंसलिंग के दौरान आईआईटी आवंटन के पश्चात सीट असेप्टेंस फीस का भुगतान कर रिपोर्टिंग सेंटर पर रिपोर्ट नहीं किया और साथ ही समय रहते सीट विड्राअल करवा ली वे इस वर्ष जेईई एडवांस परीक्षा में शामिल हो सकते हैं एवं जिन विद्यार्थियों ने गत वर्ष आईआईटी के रिपोर्टिंग सेंटर पर जाकर सीट असेप्ट कर ली थी, वे इस वर्ष जेईई-एडवांस परीक्षा में बैठने के योग्य नहीं होंगे। एनआईटी में गत वर्ष प्रवेश ले चुके विद्यार्थी भी इस वर्ष जेईई-एडवांस्ड परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। आईआईटी में आर्किटेक्चर कोर्स में प्रवेश के लिए विद्यार्थी को जेईई-एडवांस्ड परीक्षा उत्तीर्ण कर आर्किटेक्चर एप्टीट्यूड टेस्ट भी उत्तीर्ण करना होगा।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.