सीबीएसई : मैथमेटिक्स-बेसिक” के विद्यार्थियों को भी मैथमेटिक्स स्ट्रीम ऑप्ट करने की छूट

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन,नई दिल्ली द्वारा आगामी भविष्य में सीनियर सेकेंडरी स्तर पर मैथमेटिक्स सब्जेक्ट ऑप्ट करने को लेकर को लेकर एक बड़ा निर्णय लिया गया है। इस संबंध में एक नोटिफिकेशन सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट पर शुक्रवार को जारी किया गया। 10-जनवरी-2019 को सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन द्वारा मैथमेटिक्स विषय के संबंध में एक बड़ा निर्णय लिया गया था। जिसके अनुसार विद्यार्थी दसवीं बोर्ड के स्तर पर मैथमेटिक्स बेसिक या मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड का चयन कर सकते थे। ऐसे विद्यार्थी जिन्हें भविष्य में सीनियर-सेकेंडरी स्तर हेतु मैथमेटिक्स स्ट्रीम का चयन करना होता था उनके लिए मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड से दसवीं बोर्ड की परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य था। किंतु जो विद्यार्थी आगामी भविष्य में मैथमेटिक्स स्ट्रीम ऑप्ट नहीं करना चाहते थे वे मैथमेटिक्स बेसिक्स का चयन कर दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण कर सकते थे। बोर्ड ने विद्यार्थी-हित में यह नियम बनाया था कि यदि दसवीं बोर्ड की परीक्षा मैथमेटिक्स बेसिक से उत्तीर्ण करने के पश्चात किसी विद्यार्थी का मन आगामी सीनियर सेकेंडरी स्तर पर मैथमेटिक्स ऑप्ट करने का हो तो वह कंपार्टमेंट एग्जामिनेशन के दौरान मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड का एग्जामिनेशन पेपर क्वालीफाई कर मैथमेटिक्स स्ट्रीम का चयन कर सकता था। क्योंकि कोविड-19 के कारण आपात स्थितियों के चलते वर्ष 2020 में कंपार्टमेंट एग्जामिनेशन को लेकर निश्चितता नहीं है। यह तय नहीं है कि कंपार्टमेंट एग्जामिनेशन कब आयोजित किए जाएंगे। ऐसी परिस्थितियों में बोर्ड ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए मैथमेटिक्स बेसिक से सेकेंडरी परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सभी विद्यार्थियों को आगामी भविष्य में सीनियर सेकेंडरी स्तर पर मैथमेटिक्स स्ट्रीम में एडमिशन हेतु पात्र घोषित कर दिया है। बोर्ड के निर्णय अनुसार विद्यालय प्रमुखों से आग्रह किया गया है कि वे ऐसे विद्यार्थियों को एडमिशन देने से पूर्व यह जरूर जांच लें की इन विद्यार्थियों में सीनियर-सेकेंडरी स्तर पर मैथमेटिक्स जैसे विषय का अध्ययन करने की सामर्थ्य एवं क्षमता है अथवा नहीं।

जेईई-मेंस देने वाले विद्यार्थियों की संख्या में होगा सुधार

पिछले कुछ समय में मैथमेटिक्स ऑप्ट करने वाले विद्यार्थियों की संख्या घटी है। जहां एक और जेईई मेंस में लगभग 9-लाख विद्यार्थी भाग लेते हैं वहीं नीट में भाग लेने वालों की संख्या लगभग 16-लाख है। उपरोक्त निर्णय से सीनियर-सेकेंडरी स्तर हेतु मैथमेटिक्स ऑप्ट करने वाले विद्यार्थियों की संख्या में वृद्धि होगी परिणामस्वरूप जेईई-मेंस में भाग लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या में भी इजाफा होगा। इंजीनियरिंग-क्षेत्र में विद्यार्थियों का रुझान एक बार फिर बढ़ेगा। हालांकि उपरोक्त निर्णय कोविड-19 की परिस्थितियों को देखते हुए सिर्फ-2020-21 एकेडमिक सेशन हेतु लिया गया है।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.