सीबीएसई की टर्म-2 की पुनर्मूल्यांकन प्रक्रिया 26 जुलाई से
केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा कक्षा 10वीं व 12वीं के परिणाम जारी करने के बाद शनिवार को पुनर्मूल्यांकन की प्रक्रिया के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया। जारी नोटिफिकेशन के अनुसार तीन स्टेप में पुनर्मूल्यांकन प्रक्रिया होगी, जिसमें पहले व दूसरी स्टेप के आवेदन के बाद ही पुनर्मूल्यांकन हो सकेगा। यह सम्पूर्ण प्रक्रिया सीबीएसई की वेबसाइट पर ऑनलाइन ही होगा।
रिजल्ट जारी होने के बाद बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स अपने परिणामों से संतुष्ट नहीं हैं। इन स्टूडेंट्स को सीबीएसई द्वारा पुनर्मूल्यांकन का अवसर दिया गया है। यह प्रक्रिया तीन स्टेप में रखी गई है, पहले स्टेप में स्टूडेंट वैरिफकेशन ऑफ मार्क्स के लिए आवेदन करेंगे, जिसकी तिथि 26 से 28 जुलाई के मध्य रखी गई है। इसके लिए स्टूडेंट्स को 500 रुपए प्रति विषय के हिसाब से शुल्क देना होगा। अंकों के वैरिफकेशन के आवेदन के उपरान्त ही स्टूडेंट्स दूसरे स्टेप में अपनी आंसर बुक की फोटो कॉपी मंगवाने के लिए आवेदन कर सकेंगे। आवेदन के लिए स्टूडेंट्स को 8 व 9 अगस्त का समय दिया गया है। जांच की गई उत्तर पुस्तिका की छाया प्रति प्राप्त करने के लिए प्रति उत्तर पुस्तिका 700 रुपए का शुल्क देना होगा। यदि इन दो चरणों में किए गए मूल्यांकन से भी स्टूडेंट संतुष्ट नहीं है तो वह तीसरे स्टेप में पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन कर सकेगा। तीसरे व अंतिम स्टेप में 13 से 14 अगस्त के मध्य आवेदन किया जा सकेगा, जिसके लिए स्टूडेंट को प्रत्येक प्रश्न की पुर्नजांच के लिए 100 रुपए शुल्क देना होगा।

ये स्टूडेंट्स जरूर करें आवेदन
वर्ष 2023 की जेईई 12वीं परीक्षा बोर्ड पात्रता की स्थिति स्पष्ट नहीं होने से स्टूडेंट्स को सीबीएसई द्वारा दिए गए पुनर्मूल्यांकन की प्रक्रिया को अपने अनुरुप आवेदन करना चाहिए, क्योंकि अगले वर्ष संभवतः बोर्ड पात्रता 12वीं पास से हटाकर कोविड से पूर्व 2019 की भांति 75 प्रतिशत सामान्य, ओबीसी व ईडब्ल्यूएस के लिए एवं एसटी-एससी व पीडब्ल्युडी के लिए 65 प्रतिशत अथवा कैटेगरी अनुसार टॉप 20 पर्सेन्टाइल रखी जा सकती है। ऐसे में स्टूडेंट्स को सीबीएसई द्वारा दिए गए इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.