जेईई-मेन-2020 परीक्षा केंद्र बदलने एवं री-करेक्शन का मौका 15 जुलाई तक

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन जो कि इस वर्ष 1 से 6 सितम्बर के मध्य दो शिफ्टों में होना प्रस्तावित है। कोविड-19 संक्रमण के खतरे के चलते परीक्षा तिथि सितम्बर माह में करने के कारण विद्यार्थियों को अपनी आवेदन में की गई प्रविष्ठियों के री-करेक्शन एवं परीक्षा केन्द्र बदलने का अंतिम अवसर 15 जुलाई बुधवार शाम 5 बजे तक दिया गया है।

कोविड-19 संक्रमण के चलते बहुत से इंजीनियरिंग संस्थानों ने अपनी परीक्षा तिथियां स्थगित कर दी है, जो कि पहले जुलाई और अगस्त में प्रस्तावित थी, इनमें बिट्स, मनीपाल, अमृता, यूपीएस, आईएसआई, नेस्ट आदि संस्थान शामिल हैं। इसके अलावा बहुत से ऐसे इंजीनियरिंग संस्थान भी हैं, जिन्होंने अपनी प्रवेश प्रक्रिया ही निरस्त कर दी है, जिनमें वीआईटी, एसआरएम शामिल हैं। इन संस्थानों ने कॉलेजों में प्रवेश के लिए 12वीं बोर्ड की पात्रता एवं जेईई-मेन स्कोर को प्रवेश का आधार बनाया है। साथ ही कॉमेडके, कलिंगा जैसी प्रवेश परीक्षाएं अभी भी जुलाई व अगस्त में होना प्रस्तावित है।
स्टेट एवं सीबीएसई बोर्ड के परिणाम घोषित होने पर विद्यार्थी जेईई-मेन एवं एडवांस्ड की बोर्ड पात्रता को पूरी न करने के कारण परेशानी में दिखाई दे रहे हैं। इन विद्यार्थियों के पास उपरोक्त इंजीनियरिंग संस्थानों जिनकी प्रवेश परीक्षाएं अभी बाकी हैं, उनका विकल्प खुला हुआ है। इसके अलावा जेईई-मेन की रैंक एवं स्कोर के आधार पर प्रवेश देने वाले कुछ प्रमुख इंजीनियरिंग संस्थान जैसे ट्रिपलआईटी हैदराबाद एवं बैंगलुरू, डीटीयू, एनएसआईटी, ट्रिपलआईटी दिल्ली, धीरूभाई अंबानी, एलएनएमआईटी, पीडीपीयू, थापर, निरमा, जेपी नोएडा जैसे संस्थानों में प्रवेश के लिए विद्यार्थी अभी आवेदन कर सकते हैं। इनमें से ज्यादातर संस्थानों में प्रवेश पात्रता सामान्य व ओबीसी के लिए 60 प्रतिशत एवं एससी, एसटी के लिए 55 प्रतिशत तक है। विद्यार्थी कॉलेजों की प्रवेश पात्रताओं के अनुसार इनके आवेदन कर सकते हैं।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.