जेईई-एडवांस्ड-2020 (JEE Advanced 2020) के एफएक्यू (FAQ) जारी

टाई ब्रेक रूल, विदेशी छात्रों की पात्रता घोषितओबीसी-ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र 1 अप्रेल के बाद के होना जरूरी
कोटा. देश की 23 आईआईटी की 12463 सीटों पर प्रवेश के लिए जेईई-एडवांस्ड परीक्षा इस वर्ष आईआईटी दिल्ली द्वारा 17 मई को करवाई जाएगी। यह परीक्षा दो पारियों में सुबह 9 से 12 तथा दोपहर 2.30 से 5.30 बजे के मध्य संपन्न होगी। इस परीक्षा से संबंधित सभी एफएक्यू (फ्रिक्वेंटली आस्क क्यूशचन्स) के जवाब जारी कर दिए गए। 30 अप्रेल को जेईई-मेन के जारी किए गए परिणामों के आधार पर चुने गए शीर्ष 2 लाख 45 हजार विद्यार्थी जेईई-एडवांस्ड परीक्षा के लिए पात्र घोषित होंगे। जेईई-एडवांस्ड परीक्षा का परिणाम 8 जून को घोषित किया जाएगा।


गत वर्ष 1लाख 74 हजार 432 विद्यार्थियों ने जेईई-एडवांस्ड परीक्षा के लिए आवेदन किया, उनमें से 1 लाख 61 हजार 319 विद्यार्थियों ने जेईई-एडवांस्ड परीक्षा दी। जारी किए गए एफएक्यू के अनुसार जेईई-एडवांस्ड के आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन के दौरान ओबीसी एवं ईडब्ल्यूएस श्रेणी के विद्यार्थियों को अपना संबंधित कैटेगिरी दस्तावेज एक अप्रेल के बाद का ही देना आवश्यक है। कैटेगिरी का प्रमाणपत्र नहीं होने की स्थिति विद्यार्थी डिक्लेरेशन देकर सामान्य श्रेणी में जा सकता है। शारीरिक विकलांगता श्रेणी के पात्र विद्यार्थियों को जेईई-एडवांस्ड परीक्षा के दोनों पेपर्स में एक-एक घंटा अतिरिक्त दिया जाएगा।


विदेशी छात्रों की योग्यता जारी
ऐसे विद्यार्थी जो भारतीय नागरिक नहीं हैं एवं विदेशों में निवास कर रहे हैं, साथ ही उनकी 12वीं की परीक्षा भी विदेशों से ही है, ऐसे विद्यार्थियों को विदेशी छात्र माना जाएगा एवं इन विद्यार्थियों को जेईई-एडवांस्ड में शामिल होने के लिए जेईई-मेन नहीं देना होगा। से सीधे ही जेईई-एडवांस्ड परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।


टाई होने पर ऐसे निकलेगी एआईआर
जेईई-एडवांस्ड परीक्षा में यदि दो या इससे अधिक विद्यार्थियों के समान अंक आते हैं तो उस स्थिति में गणित विषय के अधिक अंकों को प्राथमिकता दी जाएगी। यदि गणित में भी अंक समान हैं तो फिजिक्स के अंकों का मिलान किया जाएगा, इस स्थिति में भी अंक समान होने पर टाई घोषित करते हुए विद्यार्थियों को समान रैंक दी जाएगी।


गत वर्ष जोसा काउंसलिंग में सीट विड्रावल करने वाले छात्रों को भी मिलेगा मौका
गत वर्ष जोसा काउंसलिंग के लिए दौरान जिन विद्यार्थियों ने आईआईटी आवंटित होने पर सीट असेप्टेंस फीस का भुगतान कर रिपोर्टिंग सेंटर पर रिपोर्ट नहीं किया और साथ ही रिपोर्ट कर सीट विड्राअल करवा ली वे इस वर्ष जेईई एडवांस्ड देने के पात्र हैं। ऐसे विद्यार्थी जो एनआईटी में अध्ययनरत हैं, वे भी जेईई-एडवांस्ड परीक्षा देने के पात्र होंगे।


इम्प्रूवमेंट देने वाले विद्यार्थियों के लिए राहत
जेईई-एडवांस्ड द्वारा आईआईटी में प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को सामान्य, ओबीसी व ईडब्ल्यूएस के लिए 75 एवं एससी-एसटी के लिए 65 प्रतिशत अथवा कैटेगिरी अनुसार टाॅप 20 पर्सेन्टाइल में आना अनिवार्य है, विद्यार्थियों द्वारा 75 प्रतिशत एवं कैटेगिरी अनुसार 65 प्रतिशत की बोर्ड पात्रता को पूरा न करने की स्थिति में वह एक या एक से अधिक विषयों में इम्प्रूवमेंट परीक्षा दे सकता है। इस स्थिति में विद्यार्थियों की दोनों अंक तालिकाओं में से विषयवार अधिक अंक लेकर बोर्ड की पात्रता देखी जाएगी, जबकि टाॅप 20 पर्सेन्टाइल की पात्रता के लिए विद्यार्थियों को सारे विषयों में इम्प्रूवमेंट परीक्षा देनी होगी।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.